क्या आप जानते हैं अमेरिका के अलावा इस देश में भी चलती है राम नाम की करेंसी? जानिए दिलचस्प खबर

भगवान राम हिंदू धर्म के पूजनीय देवता हैं और उन्होंने मानव जाति में जन्म लेकर अयोध्या को विश्व में ख्याति दिलाई थी। भारत में हिंदू धर्म की प्रधानता है तो यहां की करेंसी में महात्मा गांधी की तस्वीर छपी है तो विदेशों की करेंसी में भगवान राम का नाम और तस्वीर होना बहुत बड़ी बात है। मगर क्या आप ये बात जानते हैं कि अमेरिका के अलावा इस देश में चलती है राम नाम की करेंसी? ये एक दिलचस्प जानकारी है जिसे आपको जानना चाहिए।

अमेरिका के अलावा इस देश में चलती है राम नाम की करेंसी?
राम नाम की करेंसी वाले नोट नीदरलैंड और अमेरिका में इस्तेमाल हो रहे हैं लेकिन इसमें खास बात ये है कि इन नोटों को वहां पर आधिकारिक मुद्रा नहीं माना जाता है। ये एक खास सर्कल के अंदर ही चलता है और ये इन दोनों देशों का प्रचलन है और इन नोटों पर भगवान राम की तस्वीर छपी हुई है। अमेरिका के एक स्टेट आयोवा की एक सोसाइटी में राम मुद्रा चलाई जाती है और यहं पर अमेरिकन इंडियन जनजाति आयवे के लोग ही रहते हैं। अमेरिका की इस सोसायटी के लोग महर्षि महेश योगी को बहुत मानते हैं और महर्षि वैदिक सिटी में बसे उनके अनुयायी कामों के बदलों में इस मुद्रा की लेनदेन करते हैं। साल 2002 में “द ग्लोबल कंट्री ऑफ वर्ल्ड पीस” नाम की एक संस्था ने इस मुद्रा को जारी किया था और उन्होंने इसे अपने समर्थकों में बांट दिया था।
loading...
महर्षि महेश योगी छत्तीसगढ़ राज्य में पैदा हुए थे और इनका असली नाम महेश प्रसाद वर्मा है। उन्होंने फिजिक्स में उच्च शिक्षा लेने के बाद शंकराचार्य ब्रह्मानन्द सरस्वती से दीक्षा ली थी और इसके बाद वे हिंदू धर्म का प्रसार करने के लिए विदेश का रुख लिया था। खासकर उनका भावातीत ध्यान यानि “transcendental meditation” विदेश में काफी लोकप्रिय है। “Let it be” गाने वाले “बीटल्स” के सदस्य करियर के बेहतरीन एरा को छोड़कर भारत आए और उन्होने महेश योगी जी के साथ समय भी बिताया।

फिर योगी की ख्याति और भी बढ़ती चली गई। महर्षि का आखिरी समय एम्सटर्डम के पास एक छोटे से गांव में बीता था और तब तक योग, ध्यान और आयुर्वेदिक इलाज का उनका तरीका दुनिया में लोकप्रिय होने लगा था। 24 फरवरी, 2002 से राम मुद्रा के लेनदेन की शुरुआत हुई और वैदिक सिटी के आर्थिक और सांस्कृतिक विकास के लिए अमेरिकी सिटी काउंसिल ने इस मुद्रा को स्वीकार कर लिया था लेकिन कभी इसे लीगल टेंडर की स्वीकृति नहीं दी थी। वैसे 35 अमेरिकी राज्यों में राम पर आधारित बॉन्ड अभी भी चलते हैं।

जानिए क्या है राम मुद्रा की कीमत ?
एक राम मुद्रा का मूल्य 10 अमेरिकी डॉलर तय किया गया था और इसी तरह के तीन नोटों का मुद्रण भी हुआ था। जिस नोट पर एक राम, उसका मूल्य 10 डॉलर, जिसपर दो, उसकी कीमत 20 डॉलर और जिसपर राम की तीन तस्वीरें छपी हों उसकी कीमत 20 अमेरिकी डॉलर के बराबर थी। आश्रम में सदस्य इनका इस्तेमाल आपस में करते हैं और आश्रम से बाहर जाने पर राम मुद्रा के मूल्य के बराबर डॉलर ले लेते हैं।