हाथ जोड़ सास, दामाद से बोली-माफ करो बेटी को तुम्हारे साथ नहीं भेजूंगी...

loading...
छतरपुर जिला अस्पताल में भर्ती प्रसूता ने अपने पति के साथ जाने मनाकर दिया। महिला ने बताया कि पहले उसके दो बेटियां हुई, फिर जैसे ही तीसरी बार उसे चार महीने का गर्भ हुआ, पति ने इस बार भी लड़की होने का कह घर से निकाल दिया। 
जब उसे मालूम चला की पत्नी ने बेटे को जन्म दिया है तो अस्पताल लेने आ गया। यहां अस्पताल में महिला ने पति के साथ जाने मना कर दिया। सास ने दामाद के हाथ जोड़ते हुए कहा कि मैं अब बेटी पर हो रहे जुल्म सह नहीं सकती, माफ करो बेटी को तुम्हारे साथ नहीं भेजूंगी।