अपने जवान बेटे को ढूंढ़ते पहुंचे पुलिया पर, वहां से पिता ने उठाया हाथ और मां ने सिर, जानें क्या हुआ था

जयपुर शहर के जवाहर सर्कल थाने में मारपीट का मामला दर्ज कराने के 13 दिन बाद ही लोकेन्द्र का क्षत विक्षत शव अजमेर पुलिया के नीचे पड़ा मिला था। राजकीय रेलवे पुलिस ने पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। लेकिन अब मृतक के पिता ने बेटे की हत्या करने का आरोप लगाया है। लोकेन्द्र ने अपने ही दोस्त सुरेश का रेलवे लाइन पर क्षत विक्षत शव मिलने के मामले में हत्या की आशंका जताई और दोस्त के पिता के साथ खुलासे के लिए थाने पर गया था। 
loading...
झालाना निवासी बच्चन शर्मा का आरोप है कि बेटे लोकेन्द्र के दोस्त सुरेश की हत्या को भी हादसा बता दिया गया था। उन्होंने आरोप लगाया कि सुरेश की हत्या करने वालों ने अब लोकेन्द्र की भी हत्या कर हादसा बताने के लिए बेटे का शव रेलवे लाइन पर पटक दिया। पुलिस निष्पक्ष जांच करे तो उनके बेटे के हत्यारों का पता चल सकेगा।

हाथ पर लिखा नाम देखाा तो...
पिता बच्चन शर्मा ने कहा कि वे अजमेर पुलिया पहुंचे तो दो पुलिसकर्मी खड़े थे। उनके पास एक व्यक्ति कट्टा लेकर बैठा था। बेटे का कटा हाथ अलग पड़ा था। हाथ पर नाम लिखा देखा तो पैरों तले जमीन खिसक गई। लोकेन्द्र की मां भी साथ गई थी। उन्होंने हाथ को उठाया, तभी उसकी मां कुछ दूर पड़े बेटे के कटे सिर को गोद में लेकर बेसुध हो गई। लोकेन्द्र के चार बहने हैं। बहनों की भी लोकेन्द्र के मोबाइल के जरिए पुलिस वालों से बात हुई। वे भी वहां पहुंच गई। पत्नी-बेटियों को संभालता या बेटे के शव को। तब कुछ समझ में नहीं आ रहा था।