Big Breaking: JIO ग्राहकों को अम्बानी ने दिया बड़ा झटका, अब नहीं हो पायेगा फ्री कॉल

टेलीकॉम की दुनिया में तहलका मचाने वाली कंपनी रिलायंस जियो ने अपने फैंस को बड़ा झटका दिया है। जी हां, रिलायंस जियो के फैंस को बड़ा झटका लगा है, जिसके बाद से ग्राहकों में इसको लेकर मायूसी छायी हुई है। दरअसल, इंडस्ट्री में लंबे समय से Interconnect Usage Charge को लेकर बहस चल रही थी, जिसके बाद अब रिलायंस जियो को घुटने टेकने पड़े। ऐसे में अब यूजर्स को हर कॉल के लिए चार्ज देना पड़ा। मतलब साफ है कि यूजर्स अब फ्री कॉल का आनंद नहीं उठा पाएंगे और यह तत्काल रुप से लागू हो चुका है।
loading...
टेलीकॉम की दुनिया में लंबे समय से Interconnect Usage Charge को लेकर बहस चल रही है। इस बहस में फिलहाल रिलायंस जियो को घुटने टेकने पड़े, जिसका खामियाजा उसके करोड़ो यूजर्स को भुगतना पड़ा। दरअसल, अब रिलायंस जियो से आप दूसरे नेटवर्क पर फ्री कॉल नहीं कर सकेंगे, इसके लिए आपको चार्ज देना पड़ेगा। इस चार्ज के लिए आपको एक अलग से रिचार्ज कराना पड़ेगा। मतलब साफ है कि जिस तरह से टेलीकॉम की दुनिया में आंधी आई थी, उसी तरह से यह खत्म होने के कगार पर आ चुकी है।

आज से ही लागू हुआ ये नियम
मुफ्त कॉलिंग की सुविधा लाकर टेलीकॉम जगत में तहलका मचाने वाले अंबानी को अब झटका लगा है। ऐसे में उनकी कंपनी को यह फैसला लेना पड़ा कि अब नॉन जियो कॉलिंग के लिए लोगों को चार्ज देना पड़ेगा। यह नियम आज से ही लागू होगा। आज यदि आप किसी नॉन जियो शख्स को फोन कर रहे हैं, तो उससे पहले फोन में टॉप अप ज़रूर करा लें, क्योंकि आपको हर मिनट के लिए 6 पैसे चुकाने पड़ेगें। ऐसी स्थिति में जियो ने नया टॉप अप प्लान जारी किया है, जिसका रिचार्ज आप अभी करा लें।

रिलायंस जियो ने दिया ये स्टेटमेंट
इस पूरे मामले में जियो ने बयान जारी करते हुए कहा कि दूसरे मोबाइल नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए जियो यूजर्स को अब एडिशनल IUC टॉप अप कराना होगा और ये आज यानी 10 अक्टूबर से ही लागू होगा। साथ ही जियो ने कहा कि जब तक टेलीकॉम कंपनी से इस मामले पर समझौता नहीं हो जाएगा, तब तक दूसरे यूजर्स को कॉल करने पर पैसे देने पड़ेगे। फिलहाल ये तारीख 1 जनवरी 2020 है, लेकिन यदि विवाद नहीं सुलझा तो इसमें इजाफा होगा। ऐसे में आपको अभी टॉप अप करा लेना चाहिए।

ट्राई की वजह से लेना पड़ा ये फैसला
बताते चलें कि ट्राई ने साल 2017 में इटरकनेक्शन यूसेज चार्ज यानी IUC को 14 पैसे से घटा कर 6 पैसे कर दिया था, जिसके बाद यह कहा गया था कि इसे जनवरी 2020 तक हटा लिया जाएगा, लेकिन अभी यह मामला सुलझा नहीं और इसकी वजह से जियो को भी अपने यूजर्स से पैसे वसूलने पड़ रहे हैं। हालांकि, जियो की तरफ से यह भी कहा गया कि जितना खर्च कॉलिंग पर लगेगा, उतने का डाटा यूजर्स को दिया जाएगा, जिससे इसकी भरपाई होगी।