1.5 लाख का मंगलसूत्र निगल गया बैल, 8 दिन तक गोबर में तलाशा और जब नहीं मिला तो...

अक्सर आपने सुना होगा कि सड़क पर आवारा घूमने वाले किसी आवारा पशु ने पॉलीथीन या कोई ऐसा सामान निकल लिया, जिसे बाद में ऑपरेशन करके निकालना पड़ा। लेकिन, क्या आपने कभी सुना है कि किसी पशु ने लाखों रुपए का कोई ऐसा कीमती सामान निगल लिया, जिसे वापस पाने के लिए आठ दिन का इंतजार करना पड़ा। महाराष्ट्र में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां एक बैल डेढ़ लाख रुपए का मंगलसूत्र निगल गया। घर के मालिक को जब इस बात का पता चला तो उसके होश उड़ गए। उसने मंगलसूत्र को वापस पाने के लिए आठ दिनों तक बैल के गोबर में तलाश की, लेकिन मंगलसूत्र नहीं मिला।

इस तरह घटी पूरी घटना
loading...
यह चौंकाने वाली घटना महाराष्ट्र में अहमदनगर जिले के रायते वाघपुर गांव की है। दरअसल इन दिनों महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के ग्रामीण इलाकों में पोला नामक त्यौहार मनाया जाता है। इस त्यौहार का मकसद मानव और पशुओं के बीच संबंधों को सम्मान देना होता है। पोला त्यौहार में परंपरा के मुताबिक किसान अपने बैल को सजाते हैं और गांव में एक जुलूस निकाला जाता है। घर की महिलाएं आरती करके बैल की पूजा करती हैं। इसके अलावा बैल के माथे पर सोने का आभूषण भी सजाए जाते हैं। बीते 30 अगस्त को रायते वाघपुर गांव के रहने वाला एक किसान जब शाम को अपने बैलों के साथ घर लौटा तो उसकी पत्नी ने बैलों की आरती उतारी।

रोटी के साथ मंगलसूत्र निगल गया बैल
इसके बाद किसान की पत्नी ने अपना मंगलसूत्र बैल के माथे पर सजाया और उसे वापस पूजा की थाली में रख दिया। आरती के बाद किसान की पत्नी बैल को मीठी रोटी खिला ही रही थी कि अचानक बिजली चली गई। इसके बाद किसान की पत्नी थाली को जमीन पर रखकर अंदर मोमबत्ती लेने चली गई। इतनी देर में बैल ने जमीन पर रखी वो मीठी रोटी खाली और उसके साथ-साथ सोने का मंगलसूत्र भी निगल लिया। किसान की पत्नी मोमबत्ती लेकर लौटी तो उसे एहसास हुआ कि बैल ने रोटी के साथ-साथ उसका मंगलसूत्र भी निगल लिया है। उसने तुरंत इस बात की जानकारी अपने पति को दी।

आठ दिन तक किया मंगलसूत्र का इंतजार

किसान ने बैल का मुंह खोलकर मंगलसूत्र तलाशने की कोशिश की लेकिन मंगलसूत्र नहीं मिला। किसान के मुताबिक मंगलसूत्र करीब 1.5 लाख रुपए की कीमत का था। बैल के मंगलसूत्र निगलने की बात सुनकर आस-पास के किसान भी उसके घर पहुंचे और उन्होंने किसान दंपति को सुझाव दिया कि बैल के गोबर में मंगलसूत्र निकल जाएगा। इसके बाद किसान दंपति ने बैल के गोबर में मंगलसूत्र निकलने का इंतजार किया। दिन बीतते गए, लेकिन बैल के गोबर में मंगलसूत्र नहीं निकला और किसान दंपति की चिंता बढ़ती गई। यहां तक कि किसान ने बैल का सारा गोबर अपने भी अपने खेत में सुरक्षित रखा।

9वें दिन निकला मंगलसूत्र

आठ दिन तक इंतजार करने के बाद भी जब गोबर में मंगलसूत्र नहीं निकला तो किसान पशुओं के डॉक्टर के पास अपने बैल को लेकर पहुंचा। पशु चिकित्सक ने जब जांच की तो पता चला कि मंगलसूत्र बैल के रेटिकुलम में फंसा हुआ है। इसके बाद बैल का ऑपरेशन किया गया और मंगलसूत्र को निकाला गया। किसान को अपना 1.5 लाख रुपए का मंगलसूत्र पाने के लिए बैल के ऑपरेशन पर 5 हजार रुपए खर्च करने पड़े। इसके साथ ही डॉक्टर ने बैल को एक से दो महीने के आराम की भी सलाह दी है।