शादी के बाद पत्नी के हाथ लगी तस्वीरों व लव लैटर ने खोली पोल कि पति नहीं है कुंवारा, जानिए फिर....

राजस्थान के सीकर जिले में शादी के नाम धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। लड़की के परिजनों की ओर से पुलिस थाने में दी गई शिकायत पर लड़के पर विवाहित होने की बात छुपाने समेत कई आरोप लगाए गए हैं। मीडिया रिपोर्टर्स के अनुसार सीकर जिले के अजीतगढ़ निवासी सरकारी शिक्षक सुरेन्द्र ने बताया कि जयपुर जिले के चाकसू निवासी दीपक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उसने खुद को सीए और अविवाहिता बताकर उनकी बेटी शादी उर्फ बबली से वर्ष 2016 में शादी की।
loading...
शादी के बाद श्वेता को एक दिन में पति दीपक व दिल्ली की प्रियांशी नाम की लड़की की शादी का मैरिज सर्टिफिकेट के साथ उसके लिखे गए लव लेटर और कुछ तस्वीरें मिली। तब श्ववेता को पता चला कि दीपक ने उससे शादी के समय कुंवारा होने के बारे में झूठ बोला था जबकि वह वर्ष 2015 में प्रियांशी से शादी कर चुका था। आरोप है कि श्वेता ने धोखे में रखकर शादी करने की बात ससुर पूरणमल व सास पुष्पा को बताया तो उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। इसके बाद श्वेता अपने मायके अजीतगढ़ आ गई।
श्वेता के परिजनों का यह भी आरोप है कि सगाई से पहले दीपक के पिता ने शादी में केवल कन्या कलश मांगा था, लेकिन बाद में कार और एसी की मांग रख दी। बेटी की शादी टूटने के डर से श्वेता के पिता ने जमीन बेची दी। 40 लाख रुपए खर्च कर बेटी के हाथ पीले किए। पिता ने बताया कि दहेज में 7 लाख के गहने, कार व 1 लाख 11 हजार नकदी दिए थे। जिन्हें भी शादी बाद ससुराल वालों ने हड़प लिया।