कर्ज में था वह इसलिए उन लोगों ने उसको मार दिया, अब परिवार वालों का हो गया है ये दशा

loading...
कुण्डल जिले में सूदखोरों से परेशान किसान के शुक्रवार शाम मालगाड़ी के आगे कूदकर आत्महत्या करने के मामले में पुलिस ने आरोपियों की धरपकड़ के लिए उनके घरों सहित अन्य जगह दबिश दी, लेकिन सफलता नहीं मिली। सभी आरोपी फरार हैं तथा पुलिस टीमें उन्हें ढूंढ रही है। इधर, पोस्टमार्टम के बाद शनिवार सुबह किसान का शव बडोली गांव ले जाते ही घर में कोहराम मच गया। मृतक बद्री गुर्जर के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। उल्लेखनीय है कि चचेरे भाइयों के & हजार रुपए के बदले &2 लाख रुपए की मांग से बद्री गुर्जर परेशान था। शुक्रवार को ही उसने जिला कलक्टर व पुलिस अधीक्षक कार्यालय में परिवाद देकर कार्रवाई नहीं होने पर आत्महत्या की चेतावनी भी दी थी। 
इसके बाद किसान ने सर्किट हाउस व खानभांकरी फाटक के बीच आत्महत्या कर ली। कोलवा थाने में मृतक के भाई बीरबल गुर्जर ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि बद्री गुर्जर को उसके चाचा के लड़के रामफूल व रामअवतार पुत्र रामसहाय, पदम व मदन पुत्र रामफूल, कुम्हेर, कृष्ण पुत्र रामअवतार गत 6 माह से यह कहकर परेशान कर रहे थे कि उसके पिता ने उनसे &0 वर्ष पहले & हजार रुपए उधार लिए थे, जिनके अब ब्याज सहित &2 लाख रुपए हो गए हैं। वे उस पर प्रतिदिन &2 लाख रुपए देने के लिए दबाव बना रहे थे। उन्होंने किसान को खेत में फसल भी नहीं बोने दी। इस संबंध में कोलवा थानाप्रभारी राजेश मीना ने बताया कि सभी आरोपी फरार है, जिनकी तलाश जारी है। जल्द ही सभी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

परिवार पर रोजी-रोटी का आ गया है संकट
मृतक के भाई बीरबल ने बताया कि बद्री गुर्जर गरीब था। उसके एक ही पुत्र है, जो भी मानसिक रूप से परेशान है। बद्री ही परिवार का लालन-पालन करता था। अब उसकी मौत के बाद परिवार के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया। मृतक के परिजनों ने आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है।