मां ने कहा बच्चा मिट्टी खाता था, इसलिए पेट में दर्द हुआ, इसलिए गर्म कर उसको दागा

भीलवाड़ा जिले के बनेड़ा क्षेत्र के महुआ खुर्द गांव में एक बार फिर चार साल का बालक अंध विश्वास के दंश का शिकार हुआ है। पेट दर्द की शिकायत पर उसी के रिश्तेदार ने तीन दिन पूर्व केलू के टुकड़े को गर्म करके पेट पर डाम लगा दिया। पेट पर दागने के निशान है। हालत बिगडऩे पर बच्चे को मंगलवार सुबह मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। बनेड़ा पुलिस ने बालक का मेडिकल करवाया। रिश्तेदार के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। मां का तर्क था कि बच्चा मिट्टी खाता था। इसलिए उसे पेट दर्द हुआ। उसे ठीक करने के लिए डाम लगाया।
loading...
जानकारी के अनुसार महुआ खुर्द निवासी शिवराम भील का चार साल का पुत्र दीपक को चार-पांच दिन से पेट दर्द की शिकायत थी। १ सितम्बर की शाम को हालत बिगडऩे पर बच्चे की मां जमना देवी अस्पताल में दिखाने की बजाए उसे रिश्तेदार रामेश्वर भील के घर ले गई। वहां रामेश्वर ने इलाज की बात कहते हुए केलू को तोड़कर उसके एक टुकड़े को गर्म किया। उसके बाद मां ने बच्चे के हाथ और पैर पकड़ लिए। रामेश्वर ने मासूम के पेट पर टुकड़े से दाग दिया। 
इससे बच्चा छटपटा गया। उसे बाद में घर ले आए। इस दौरान सोमवार रात को बच्चे की हालत ज्यादा बिगड़ गई। उसे जिला मुख्यालय लाया गया। यहां चिकित्सक ने जांच के बाद बच्चे को भर्ती कर लिया। डाम की सूचना पर बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सुमन त्रिवेदी ने चिकित्सक से दीपक की हालत के बारे में जानकारी ली। वहीं बनेड़ा थानाप्रभारी सुशीला काठात को कार्रवाई के निर्देश दिए। हैड कांस्टेबल बाबूलाल अस्पताल पहुंचे और बालक का मेडिकल करवाया।