जो पड़ोसी लड़के को ढूंढ रहा था उसी के घर से मिला वो लड़का और फिर जो हुआ

गुना जिले के बमौरी थाना क्षेत्र के किटर्रा गांव में 19 सितंबर से लापता एक बालक का शव रविवार को उसी के पड़ोसी के घर गेहूं रखने की लोहे की टंकी(ड्रम) में मिला। यही पड़ोसी दो दिन तक बालक को खोजने का नाटक भी कर रहा था और फिर फरार हो गया। बमोरी पुलिस के मुताबिक ग्राम किटर्रा निवासी पुरुषोत्तम बंजारा का बेटा मोहन सिंह 19 सितंबर की शाम करीब 7 बजे घर के बाहर से लापता हो गया था। परिजन ने बमोरी थाने में अज्ञात आरोपित के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कराया था।
loading...
उसी दिन से परिजन और पुलिस के साथ पड़ोसी तपेंद्र अहिरवार भी मोहन को खोजने का नाटक कर रहा था। दो दिन पहले तपेंद्र घर में ताला लगाकर कहीं चला गया। उसकी पत्नी भी बच्चों को लेकर कुछ दिन पहले मायके जा चुकी। रविवार को तपेंद्र के घर से बदबू आई, तो ग्रामीणों ने चौकीदार को बताया। चौकीदार की सूचना पर बमोरी थाना प्रभारी ने घर का ताला तोड़कर देखने को कहा। ग्रामीण ताला तोड़कर घर में घुसे। वहां गेहूं रखने वाली लोहे की टंकी में से बदबू आ रही थी। उस पर वजनी पत्थर, कपड़े और टीवी रखी थी। सब सामान हटाकर टंकी का ढक्कन खोला, तो मोहन का शव दिखा। 
उसके मुंह पर कपड़ा बंधा था और दोनों हाथ पीछे बंधे थे। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची।
शव निकलवाकर पीएम के लिए भिजवाया। एसपी राहुल कुमार ने मौका मुआयना कर मोहन के परिजनों को आश्वस्त किया कि आरोपित को जल्द गिरफ्तार कर लेंगे। एफएसएल अधिकारी डॉ. आरसी अहिरवार ने बताया कि मोहन के शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं मिले। उसकी मौत का कारण पीएम रिपोर्ट से स्पष्ट होगा।