एक लड़का खिंच रहा था बहन का फ़ोटो, भाई ने देख लिया और फिर जो हुआ..

राजधानी नई दिल्ली के पटेल नगर इलाके में मंगलवार शाम यहां एक लड़की का फोटो खींचने के विवाद में 11वीं के छात्र शुभम श्रीवास्तव (17) की चाकू मारकर हत्या कर दी गई। वारदात में लड़की के पुराने दोस्त समेत दो लोग घायल हो गए और उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शुभम घटना के समय घर से ट्यूशन के लिए निकला था। पुलिस के अनुसार, आनंद पर्वत के प्रेम नगर इलाके मेें रहने वाला शुभम मंगलवार शाम सात बजे ट्यूशन के लिए निकला था। यहां करीब एक घंटे बाद घरवालों को सूचना मिली कि रॉक गार्डन के पास कुछ युवकों ने उसे चाकू मार दिया है और उसे बीएलके अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 
loading...
परिजन अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि छाती पर चाकू के कई वार होने के कारण उसकी मौत हो चुकी है। अस्पताल से मिली सूचना के बाद पुलिस ने जांच की तो पता चला कि शुभम पर तीन नाबालिगों ने हमला किया है। यहां सीसीटीवी फुटेज से रंजीत नगर के रहने वाले तीनों की पहचान हो गई है और ये सभी नाबालिग हैं। पुलिस के मुताबिक, शुभम के एक दोस्त की एक लड़की से दोस्ती थी। यहां कुछ दिन पहले लड़की ने एक अन्य लड़के से दोस्ती कर ली। मंगलवार रात शुभम अपने उस दोस्त व एक अन्य के साथ जा रहा था और उन्होंने नए दोस्त के साथ लड़की का फोटो खींच लिया। 
यहां लड़की के नए दोस्त ने विरोध किया तो दोनों पक्षों में कहासुनी हुई और शुभम के दोस्तों के लड़की के दोस्त की पिटाई कर दी। फिर उसने फोन कर अपने दोस्तों को बुला लिया। उसके बाद रॉक गार्डन के पास दोनों पक्षों का दोबारा आमना-सामना हो गया। वहां उन्होंने शुभम और उसके दोनों दोस्तों को चाकू से वार कर घायल किया और फरार हो गए। शुभम के पिता राजेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि उनका बेटा पढ़ने-लिखने में तेज था। वह सरकारी स्कूल में पढ़ता था और बिजनेस स्टडीज की क्लास लेने के लिए गौतम कोचिंग सेंटर गया था।

किसी ने नहीं किया मदद
सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि एक घायल लड़का अपने दोस्तों को संभालने की कोशिश कर रहा है और वह पास से गुजरने वाली गाड़ियों को हाथ देकर रोकने की गुहार लगा रहा है, लेकिन कोई नहीं रुक रहा है और फिर कुछ देर में ही वहां लोगों की भीड़ जमा हो गई, लेकिन किसी ने भी मदद का हाथ नहीं बढ़ाया। यहां कुछ लोग तमाशबीन बनकर घायलों को देख रहे थे तो कोई लड़कों का वीडियो बना रहा था। एक घायल लड़का भीड़ से पानी मांगता है, लेकिन कोई उसे पानी नहीं देता। फिर एक घायल लड़का खुद ही बैटरी रिक्शा को रोकता है और अपने दोस्तों को लेकर अस्पताल जाता है।