इंजीनियर पति ने डाक से पत्र भेजकर कह दिया तलाक, अभी 9 महीने पहले ही हुआ था निकाह

loading...
धनबाद जिले के मुरलीडीह निवासी यासिन मियां की पुत्री ताजमुन निशा (22) को उसके पति शहनवाज अंसारी (28) ने डाक से तीन तलाक दिया है. महिला ने भाटडीह ओपी में शिकायत की है. उसका आरोप है कि पुलिस कानूनी कार्रवाई करने में शिथिलता बरत रही है. ताजमुन के अनुसार उसका पति चतरा में एक प्राइवेट कंपनी में जूनियर इंजीनियर के पद पर कार्यरत है. ताजमुन का पैतृक गांव मुनीडीह में है. वह इसके पहले भी अपने पति समेत ससुराल वालों पर डायन कह कर प्रताड़ित करने और दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज करा चुकी है.

15 दिसंबर 18 को हुआ था निकाह
ताजमुन ने बताया कि उसके पिता यासिन मियां टाटा की भेलाटांड़ कोलियरी में नौकरी करते हैं. 15 दिसंबर 2018 को शहनवाज के साथ उसका निकाह हुआ. 15 दिनों तक सब ठीक-ठाक रहा. उसके बाद पूरे ससुराल पक्ष के लोग दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे. कार का डिमांड हुआ. इस दौरान उसके नंदोसी और देवर ने कई बार बलात्कार का प्रयास किया, जिसकी शिकायत वह अपने सास-ससुर से करती रही. लेकिन पूरा परिवार उसे (ताजमुन को) डायन बताते रहे. गत 31 मई को ससुराल वालों ने उसे दूध में जहर मिलाकर कर पिला दिया. उसे बोकारो के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जिसके बाद परिजन उसे मायके ले आये. 30 जून को उसने महुदा थाना में अपने पति शहनवाज अंसारी, सास शेरा बीबी, ससुर नौशाद मियां, देवर शफिक अंसारी (सभी मुरलीडीह, महुदा निवासी) के अलावा ननद शबनम खातून, नंदोसी शाहजहां अंसारी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया.

18 सितंबर को दर्ज कराया तलाक का मामला
ताजमुन ने तलाक के मामले में गत 18 सितंबर को अपने पति के खिलाफ भाटडीह ओपी (महुदा थाना) में आवेदन देकर मामला दर्ज करवाया. ताजमुन का आरोप है कि पुलिस मामले में लापरवाही बरत रही है. दोनों मामलों में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. सोमवार को उसने वरीय अधिकारियों से मिलकर न्याय की गुहार लगायी है. ताजमुन एसएसएलएनटी महिला कॉलेज, धनबाद में बीएससी (मैथ) की छात्रा है.