बृजेश को उसके आशिकी ने ही डूबा दिया, जिसको करता था वो बेशुमार प्यार उसी ने उसका किया ये हाल

बागेश्वर में कोतवाली पुलिस ने बृजेश हत्याकांड में दो और आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें पूर्व में गिरफ्तार पंकज बिष्ट की पत्नी तनुजा बिष्ट के साथ एक 14 वर्षीय नाबालिग भी शामिल है। पुलिस ने हत्या कर शव छिपाने में प्रयुक्त कार भी बरामद की है। मंगलवार को कोतवाल केआर वर्मा ने कोतवाली में घटनाक्रम में का खुलासा करते हुए बताया कि कपकोट के मोहल्ला ऐठाण निवासी बृजेश ऐठानी का शव 20 जुलाई को गुनाकोट के जंगल में मिला था। मामले में हत्या की आशंका जताते हुए बृजेश के भाई राहुल सिंह ने 21 जुलाई को सात रतबे पटवारी चौकी में धारा 302 के तहत रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
loading...
जांच के बाद सामने आया कि बृजेश सात रतबे क्षेत्र के ग्राम गुनाकोट निवासी पंकज बिष्ट की पत्नी तनुजा से प्रेम करता था। इसी के चलते पंकज ने बृजेश की हत्या कर शव जंगल मेें फेंक दिया। इस पर राजस्व पुलिस ने आरोपी पंकज को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बाद में डीएम के आदेश के बाद मामला सिविल पुलिस को स्थानांतरित हो गया। एसपी लोकेश्वर सिंह के आदेश पर गठित पुलिस टीम ने गांव रतबे जाकर पूछताछ की तो सामने आया कि तनुजा का बृजेश संग अवैध संबंध थे, जिसका उसके पति पंकज को पता चल गया। इसी के तहत उसने तनुजा के साथ साजिश रची। इसके तहत तनुजा ने 19 जुलाई को बृजेश को हल्द्वानी से बुलाया। 20 जुलाई की सुबह को पंकज ने अपने घर के पीछे पाइप मारकर बृजेश की हत्या कर दी। इस दौरान उन्हें एक किशोर ने देख लिया, जिसपर आरोपियों ने उसे डरा धमकाकर किसी को इस बारे में बताने से मना कर दिया।
इसके बाद उन्होंने नाबालिग की सहायता से बृजेश के हाथ-पांव बांधे और शव को नातोल के जंगल में फेंक दिया। मौके पर बृजेश का बैग, मोबाइल फोन, आधार कार्ड, सल्फास की गोलियां फेंकने के बाद वह घर लौट आए। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जहां से दोनों को अल्मोड़ा जेल भेज दिया। अभी पुलिस हत्या में प्रयुक्त पाइप बरामद नहीं कर सकी है जबकि शव छिपाने में प्रयुक्त अल्टो कार जब्त कर ली गई है। एसआई मदन लाल मामले की जांच कर रहे हैं। अब पुलिस आरोपी पंकज को रिमांड में लेकर हत्या में प्रयुक्त पाइप को बरामद करने का प्रयास करेगी।