इस दरवाजे से बेटे की चली गई जान, और अब मौत से लड़ रहा पिता, जानिए क्या है इस दरवाजे में

माधौगढ़ कोतवाली क्षेत्र के सिहारी गांव में मकान में दरवाजा लगाना काल को बुलावा देने जैसा हो गया और मामूली विवाद सोमवार को खूनी संघर्ष में बदल गया। पड़ोसी के जानलेवा हमले में बेटे की जान चली गई और गंभीर घायल पिता अस्पताल में अब जिंदगी के लिए मौत से जंग लड़ रहा है। 
loading...
हत्या की घटना से गांव में सनसनी और सन्नाटा फैल गया है और दहशतजदा लोग घरों से बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। एएसपी व सीओ ने जांच के बाद परिजनों की तहरीर पर चार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर एक आरोपित को हिरासत में लिया है।

पड़ोसी ने किया था जानलेवा हमला

सिहारी गांव में गयाप्रसाद उर्फ गिरोले पुत्र गोविंदी शाक्यवार ने मेवालाल सोनी से मकान खरीदा था। इस मकान में दीवार बनाकर उसने दूसरी तरफ दरवाजा लगा लिया था। इसे लेकर पड़ोसी विजयबहादुर पुत्र श्रीप्रकाश चौधरी से विवाद चल रहा था। गयाप्रसाद सोमवार की सुबह अपने बेटे 25 वर्षीय प्रदीप के साथ खेत पर पौधे लगाने जा रहा था।
आरोप है कि इस बीच पीछे से आए विजयबहादुर ने धारदार हथियार (बगदा) से पिता-पुत्र पर ताबड़तोड प्रहार कर दिए। पिता-पुत्र लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़े और घटना देखकर ग्रामीण पहुंच गए। इससे पहले आरोपित मौके से फरार हो गया। कोतवाल रामसहाय सिंह फोर्स लेकर गांव पहुंचे और पूछताछ की। पुलिस ने पिता-पुत्र को अस्पताल भेजा गया, जहां प्रदीप को मृत घोषित कर दिया गया। गयाप्रसाद को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भेज दिया गया है।

अभी पिछले चार दिन पहले हुई थी मारपीट
आलाधिकारियों के सख्त निर्देश के बाद भी थाना पुलिस भूमि विवाद के मामलों में गंभीरता नहीं दिखा रही है। अपर पुलिस अधीक्षक डॉ. अवधेश सिंह भी पहुंचे। छानबीन में सामने आया कि चार दिन पहले दोनों पक्षों में मारपीट हुई थी और मामला थाने तक पहुंचा था। पुलिस ने दोनों पक्षों पर मामूली धारा में कार्रवाई की थी। ग्रामीणों का कहना है कि उसी समय कठोर कार्रवाई हो गई होती तो इस खूनी हमले को रोका जा सकता था।