8 घंटे तक सांस लेता रहा ट्रक ड्राइवर, लेकिन तमाशबीन बने रहे लोग, जानिये क्या है पूरा मामल

आज के दौर में इंसानियत कहीं गुम सी हो चुकी है। पहले जहां लोग एक-दूसरे का दर्द देखते ही मदद के लिए आगे आते थे, वहीं आजकल लोग अपने काम मे इतने ज्यादा व्यस्त हैं कि किसी की कोई परवाह नही है। ऐसा मंजर सोलन में देखने को मिला है, जहां पर फोरलेन निर्माण में कार्यरत एक ट्रक चालक अपने फोन को लेने के लिए ढांक पर गया और फिसलन होने के कारण नाले में जा गिरा, जिस कारण उसकी मौत हो गई। मामला सोलन के सलोगड़ा का है जहां एक ट्रक ड्राइवर सुबह 5 बजे से खाई में गिर गया था और 8 घंटों तक जिंदगी और जंग लडऩे के बाद उसकी मौत हो गई।

रेत लेकर सोलन में पहुंचा था ट्रक चालक
loading...
बता दें कि सोलन से शिमला तक फोरलेन कार्य में एक ट्रक चालक रेत लेकर सुबह के समय सोलन पहुंचा था। जैसे ही वह ट्रक से बाहर निकला तो उसका फोन सड़क किनारे गिर गया। सुबह के समय बारिश होने के कारण वह फोन लेने के लिए जैसे ही उस जगह पर गया तो वहां फिसलन होने के कारण खाई में जा गिरा और गिरने के कारण उसकी मौत हो गई। वहीं उसके साथी चालकों का कहना है कि ट्रक ड्राइवर सुबह करीब 5 बजे रेत लेकर सलोगड़ा पहुंचा था और गाड़ी से उतरते ही उसका मोबाइल सड़क से बाहर गिर गया। बारिश में मोबाइल खराब न हो इसलिए वह खुद उसे लेने खाई की ओर उतर गया और खाई में जा गिरा।

ट्रक ड्राइवर के नजदीक जाने की किसी ने भी नहीं उठाई जहमत
अब कयास लगाए जा रहे है कि फिसलन वाली जगह होने के कारण उसका पैर फिसल गया है लेकिन हद तो इस बात की है कि साथी लोग तब से लेकर अब तक आसपास मंडरा रहे हैं लेकिन कोई उस ट्रक ड्राइवर के नजदीक जाने तथा उसे सड़क एवं अस्पताल तक पहुंचाने की जहमत नहीं उठा सका। 8 घंटे बीत जाने के बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस अधिक्षक सोलन मधुसूदन शर्मा मौके पर पहुंच कर मामले की जांच कर रहे है।