श्रीराम लिखी हुई ईंटें नाली में लगाने पर उलमा हुए नाराज, बोले- 'धार्मिक आस्था से खिलवाड़ करना उचित नहीं'

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक फोटो में श्रीराम लिखी हुई ईंटों से नाली का निर्माण किया जा रहा है। जिसको लेकर देवबंदी उलमा ने सख्त नाराजगी का इजहार किया है। उलमा का कहना है कि किसी भी धर्म के लोगों की धार्मिक आस्था के साथ कभी भी खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। ऐसा करने वाले लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई भी होनी चाहिए।
loading...
शुक्रवार को वायरल हुई इस फोटो में श्रीराम लिखी ईंटों से नाली का निर्माण किया जा रहा है। ये बताया जा रहा है कि यह फोटो उत्तराखंड के रुड़की में किसी गांव का है। इसको लेकर जमीयत दावतुल मुसलीमीन के संरक्षक व प्रसिद्ध आलिम-ए-दीन कारी इस्हाक गोरा ने कहा कि सोशल मीडिया पर जो फोटो वायरल हो रही है उसमें काम करने वाले लोगों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। 
उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में रहने वाले सभी धर्मों की ये  जिम्मेदारी बनती है कि वे एक दूसरे के धर्मों का सम्मान करें और कोई भी ऐसा काम न करें जिससे उनकी भावनाएं आहत होती हों। जिस तरीके से श्रीराम लिखी ईंटों को नाली निर्माण में इस्तेमाल किया जा रहा है यह सरासर गलत है और इसकी जितनी निंदा की जाए कम है। पुलिस प्रशासन को चाहिए कि वह इस मामले की तह तक पहुंचे और इस प्रकार का कार्य करने वाले लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करे। 
तंजीम अबना-ए-मदारिस के अध्यक्ष मौलाना मुफ्ती याद इलाही कासमी ने भी वारयल हो रहे फोटो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि जो कोई भी इसके लिए जिम्मेदार है उसको तुरंत सजा जरूर मिलनी चाहिए। हमारा मुल्क आपसी सौहार्द और एकजुटता की मिसाल है। इसमें सभी धर्मों के लोग रहते हैं जो एक दूसरे के धर्म का आदर और सम्मान करते हैं। इस तरह का कार्य किया जाना घोर निंदनीय है। इसकी जांच होनी चाहिए।