औरंगाबाद स्टेशन के बोर्ड पर पेंट फेंका, नाम हटाकर लिखा संभाजी नगर

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में कुछ अज्ञात बदमाशों ने स्टेशन पर लिखे नाम को मिटाकर नया नाम लिख दिया है। औरंगाबाद रेलवे स्टेशन पर कुछ बदमाशों ने एक बोर्ड पर लिखे स्टेशन के नाम को पेंट फेंककर मिटा दिया फिर उस पर संभाजी नगर लिख दिया। यह घटना रविवार की है। इस पूरे मामले पर पुलिस इंस्पेक्टर रामेश्वरम रॉज ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हम उन बदमाशों को कठोर से कठोर सजा देंगे, उन्हें जल्द से जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें दो व्यक्ति स्टेशन पर लगे बोर्ड पर लिखे हुए नाम को मिटाते हुए नजर आ रहे हैं। एक दूसरी तस्वीर में एक भगवा रंग का स्कार्फ पहने एक व्यक्ति बोर्ड के पास पोज देकर फोटो खिंचवाते देखा जा सकता है।
loading...
बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है जब शहरों या स्टेशनों के नाम बदलने की खबरें चर्चा में आई हों। इससे पहले भी उत्तर प्रदेश के कई शहरों व स्टेशनों के नाम में परिवर्तन किए जा चुके हैं। अंतर सिर्फ इतना है कि इन नामों में ये सभी परिवर्तन सरकारी आदेशों के बाद हुए किन्तु औरंगाबाद की ये खबर गैरकानूनी है जिसपर पुलिस ने अपनी जांच शुरू कर दी है। आपको बता दे, इससे पहले कुछ शहरों और स्टेशनों के नामों में परिवर्तन हो चुका है। वर्ष 2018 के अगस्त में उत्तर प्रदेश का मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कर दिया गया था। 
इसके पहले झारखंड के गोमोह जंक्शन का नाम भी बदलकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन किया जा चुका है। वहीं इसके पहले इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किया जा चुका है। इसके साथ ही अगस्त 2018 में ही राजस्थान के बाड़मेर के मियों का बाड़ा का नाम बदलकर महेश नगर किया गया था। सितंबर 2017 में गुजरात के कांडला पोर्ट का नाम बदलकर जनसंघ से सह संस्थापक के नाम पर दीन दयाल पोर्ट किया गया। इतना ही नहीं दक्षिण के राज्य कर्नाटक के भी कई शहरों के नामों में परिवर्तन किया जा चुका है। राजधानी बैंगलोर से बेंगलुरू, मैसूर से मैसुरू और मैंगलोर का नाम भी बदलकर मेंगलुरू किया जा चुका है।