कंडक्टर ने छात्रा से की अभद्रता, बीच रास्ते बस से उतारने की कोशिश, जानें क्या था मामला

लखनऊ में रोडवेज के प्रयाग डिपो की बस के कंडक्टर ने सोमवार को एक छात्रा से किराए को लेकर अभद्रता की। यही नहीं, जबरियां उसे बस से उतारने लगा। इस पर छात्रा ने डायल-100 पर सूचना दी तो पुलिस ने कंडक्टर को कब्जे में लेकर पूछताछ की। 
छात्रा ने रोते हुए किराया चुकाने के लिए पांच सौ रुपये का नोट देने पर कंडक्टर द्वारा अपमानित करने की आपबीती सुनाई। पुलिस के सामने कंडक्टर ने छात्रा से माफी मांगी तो प्रकरण का पटाक्षेप हो गया।
loading...
रायबरेली से लखनऊ आ रही बस में हरचंदपुर से जूली सिंह सवार हुई। जूली सिंह ने कंडक्टर फारूख वसीम को 500 रुपये का नोट दिया। टिकट लेने के बाद कंडक्टर ने  छात्रा से कहा कि मेरे पास टूटे पैसे नहीं है। आप पांच सौ का नोट वापस ले, मुझे टूटे पैसे दो। छात्रा ने कहा कि उसके पास भी टूटे पैसे नहीं हैं तो वह कहां से दे। इस पर कंडक्टर झगड़ने लगा।
हद तो तब हो गई जब वह लखनऊ आने से पहले बीच रास्ते में उसे उतारने लगा। परेशान होकर जूली ने डायल 100 नंबर पर सूचना दी। तब तक बस उतरेठिया आ चुकी थी। पुलिस मौके पर पहुंची तो उसने आपबीती बताई। पुलिस कंडक्टर और बस को लेकर थाने गई। इसके बाद कंडक्टर के तेवर नरम पड़े और वह जूली से माफी मांगने लगा।
कंडक्टर के लिखित माफी मांगने पर पुलिस ने कार्रवाई न करने की बात कही। कोतवाल अशोक कुमार सरोज ने बताया है कि छात्रा ने अपनी शिकायत वापस ले ली। इसलिए केस दर्ज नहीं किया गया।