पाव-भाजी के धंधे से परिवार का गुजारा करने में दंपति ने उठाया ये बड़ा कदम, जानिए क्या था कारण

गुजरात में अमरेली के धारी में रहने वाले एक दंपति, ने आर्थिक तंगी के चलते जान दे दी।पड़ोसियों को उनका पता चला तो पुलिस को जानकारी दी गई। पुलिस ने दोनो के लासो को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्रारंभिक पड़ताल में मालूम चला कि दोनों सूदखोरों के चक्कर में फंस गए थे।कोई और रास्ता न देख उन्होंने आत्महत्या करने का कदम उठाया।
मृतकों की पहचान 55 वर्षीय जैमिनभाई जोशी और 52 वर्षीय अंजनाबेन के रुप में हुई।पशु अस्पताल के नजदीक रहने वाला यह दंपति कल गांव में स्थित लिंबड़िया नेरा के पास गया था और वहीं एक साथ विषपान किया।जिसके बाद बेहोश हो गए।स्थानिकों द्वारा दोनों को अस्पताल भेजा गया,लेकिन इलाज के दौरान पहले ही दम तोड़ दिया। चश्मदीद के अनुसार,पहले पति और बाद में पत्नी की मृत्यु हुई। 

मृतक के पुत्र जयदीप का कहना है कि आर्थिक तंगी के कारण दोनों कुछ वक्त से परेशान चल रहे थे।उसने बताया कि पिता जैमिनभाई पहले लाइब्रेरी के पास चाय की छोटी सी दुकान चलाते थे।कुछ वक्त पहले हुए डिमोलिशन में दुकान चली जाने के कारण उन्होंने भाजी-पाव का धंधा प्रारंभ किया।जबकि, इस धंधे में विशेष सफलता नहीं मिलने के कारण आर्थिक मुश्किलों का सामना कर रहे थे। जिसके चलते दोनों कुछ सूदखोरों के चक्कर में बुरी तरह फंस गए थे।