फ्रूटी में मीले कीड़े का असलियत क्या है? जानिये क्या है इसकी सच्चाई

फ्रूटी में झोल है...सबको मालूम नहीं लेकिन इसमे आवश्यक झोल हैं।छोटे से लेकर बढ़े और बच्चों लेकेर माता-पिता और रिश्तेदार,ये समझ लें कि इस फ्रूटी में झोल हैं।क्योंकि सील पैक फ्रूट पर चीटियां और न जाने कितेन प्रकार के कीड़ों ने कब्जा कर रखा हैं।
loading...
तस्वीरें उत्तर प्रदेश के बिजनौर से है,यहां के मोहल्ला चाहशीरी निवासी अब्दुल ने अपने दो वर्ष के बेटे के लिए फ्रूटी खरीदी,लेकिन एक फ्रूटी पीकर एक और की जिद्द करने से पहले ही बच्चा अस्पताल में और पापा की हालत खराब।मालूम चला की बच्चे को फ्रूटी पिलाना भारी पड़ा।

दरअसल,बच्चा एक फ्रूटी भी पी नही पाया,क्योंकि जैसे ही फ्रूटी में पाइप डाली,चीटियों ने पाइप का छेद बंद कर दिया, पाइप में चिटियां फंस गई।बच्चे ने इसकी शिकायत पिता से की और पिता अब्दुल ने फ्रूटी का पैकेट फाड़ डाल,अब जो दिखा,आंखे फटी की फटी रह गई,आम के रस वाले फ्रूटी में चिटियों की फैज देख होश फाख्ता हो गए।
अब आज के जमाने में जहां लोगों में रोटी और तमाम ठंडी ड्रिंक का फैशन सा बन गया है,ऐसे में फ्रूटी में कीड़ा निकलना वाकई चिंतन का विष्य हैं।लेकिन सील बंद फ्रूटी में इसती संख्या में कीड़े मकौड़े आखिर आए कहा से,ये अब भी एक सवाल हैं।तो आखिर कौन देगा इसका जवाब।इसे बनाने वाली कंपनी,या बेचने वाला दुकानदार या फिर इस सब का आदेश देने वाली सरकारी तंत्र।क्योंकि जवाब अभी मिला नहीं हैं।इसलिए आपको करना होगा थोड़ और इंतजार।