कहीं गायब ही हो गई थीं 'नदिया के पार' की ‘गुंजा’, जानिये अब कैसे चल रहा है इनका गुजारा

loading...
बॉलीवुड में बहुत से ऐसे चेहरे हैं जिन्हें आपने कुछ फिल्मों में देखा है किन्तु फिर ये धीरे-धीरे इंडस्ट्री से गायब होती गईं। हम ऐक्टर्स की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि एक्ट्रेसेस का करियर फिल्म इंडस्ट्री में बहुत कम माना जाता है और उन्हीं में से एक एक्ट्रेस हैं साधना सिंह, जिन्होने फिल्म सुपर-30 से अपनी दमदार वापसी की है। मगर कहीं गायब हो गई थीं नदिया के पार की ‘गुंजा’, अब इस तरह दर्शकों ने अचानक देखा तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

कहीं गुमनाम हो गई थीं नदिया के पार की ‘गुंजा’
80 के दशक की फेसम एक्ट्रेस साधना सिंह ने साल 1982 में आई फिल्म नदिया के पार में गुंजा का किरदार बहुत ही खूब निभाया था। दर्शक उन्हें इसी किरदार के लिए याद रखते हैं और साधना तभी से घर-घर में पॉपुलर हो गई थीं। आपको बता दें कि बहुत वर्षो तक पर्दे से दूर साधना ऋतिक रोशन की फिल्म सुपर-30 में अहम किरदार में नजर आई हैं। फिल्म में उन्होंने ऋतिक की मां का किरदार निभाया है और इसमें उनका रोल लंबा होने के साथ एक असरदार असर छोड़ने वाला भी है। 
बिहारी लहजे में उन्होंने कई दमदार डायलॉग्स भी बोले हैं। साधना ने राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म नदिया के पार की और इसके बाद बड़े पर्दे से बिल्कुल गायब हो गई थीं किन्तु कुछ वर्षो बाद टीवी सीरियल्स में नजर आईँ। यूपी के एक छोटे गांव में जन्मी साधना यूपी-बिहार की भाषा को अच्छे बोल और समझ सकती हैं। किसी ने नहीं सोचा था कि वे हीरोइन बनेंगी किन्तु बहन के साथ शूटिंग देखने आने वाली एक्ट्रेस पर निर्देशक की नजर पड़ ही गई।
साधना स्वयं भी कानपुर के एक छोटे से गांव नोनहा नरसिंह की रहने वाली हैं और अपनी मासूमियत से लोगों को अपना दीवाना बना बैठी थीं। साधना ने पिया मिलन, पापी संसार, फलक जैसी फिल्मों में कार्य किया। इन्होने चर्चित शो जस्सी जैसी कोई नहीं में जस्सी की मां का करिदार निभाया था। फिल्म नदिया के पार में इन्हें सबसे अधिक लोकप्रियता मिली। इनका किरदार इतना पॉपुलर रहा कि उस वक्त पैदा होने वाली बेटियों का नाम उनके माता-पिता ने गुंजा रखना शुरु कर दिया था। 
साधना सिंह ने शादी के बाद से फिल्मों में कार्य करना कम और फिर बंद कर दिया था लेकिन टीवी सीरियल्स में ये कभी-कभी अपनी उपस्थिति दिखा देती थीं। साधना सिंह ने कई यादगार किरदार निभाए किन्तु फिल्म नदिया के पार जैसी कोई फिल्म नहीं है। इस फिल्म के आधार पर ही फिल्म हम आपके हैं कौन बनी थी जिसके केवल किरदार बदले थे बाकी कहानी पूरी वही थी। अगर आपने दोनों फिल्में देखी हैं तो हमें आपको कुछ बताने की आवश्यकता नहीं है।