छत्तीसगढ़ की होनहार बेटी की दुबई में संदिग्ध हालात में मौत, पति पर लगे ऐसे आरोप

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर शहर के गुस्र् घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय से एमबीए में गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाली होनहार छात्रा की दुबई में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। हाल ही में वह शहर आई थी तब अपने पति से विवाद व प्रताड़ना की जानकारी परिजन को दी थी। इससे अब परिजन भी अपनी बेटी की रहस्यमय मौत को लेकर प्रश्न उठा रहे हैं। वरिष्ठ पत्रकार प्राण चड्डा की बेटी प्रीति चड्डा दुबई में मल्टीनेशल कंपनी में एचआर प्रमुख पद पर कार्यरत थी। उसकी शादी करीब तीन साल पहले पायलट सिंधु घोष के साथ हुई थी। दोनों पति-पत्नी अबुधाबी में रह रहे थे। 23 जून को प्रीति की उनके निवास में संदिग्ध परिस्थतियों में मौत हो गई। लगभग एक वर्ष से प्रीति व उसके पति के बीच विवाद चल रहा था। 
loading...
इसकी जानकारी बिलासपुर आने पर उसने अपने पिता व परिजन को दी थी। तब उसके शरीर पर चोट के निशान भी थे। वह दुबई चली गई और अपना जॉब शुरू कर दी। फिर बाद में पति सिंधु घोष संबंध सुधारने की प्रयास करने लगा। इस बीच प्रीति अपने अबुधाबी के मकान को छोड़ दुबई स्थित होटल में किराए पर रहने लगी थी। ईद पर्व पर छुट्टी के दौरान वह फिर से बिलासपुर आई। इस बार भी उसने अपने पति के साथ विवाद व तनाव की जानकारी दी। परिजन ने बताया कि रविवार को वह अपने कपड़े लेने के लिए अबुधाबी गई थी। तभी उसकी मौत हो गई। इसकी सूचना उसके पति सिंधु ने फोन कर दी है। प्रीति के शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन उसे लेकर भारत आने की तैयारी में हैं।

हैरान हैं परिजन, इंटरपोल से ली जा रही मदद

प्रीति की मौत की खबर सुनकर परिजन भी दंग रह गए। उसके पति ने जैसे ही खबर दी, परिजन को उसके साथ गंभीर घटना होने की आशंका हुई। उन्होंने अपने वकील के साथ मिलकर स्थानीय पुलिस अफसरों से चर्चा की है। साथ ही उनके जरिए इंटरपोल से संपर्क कर सहायता मांगी जा रही है। वहीं बेटी के शव को भारत लाने की गुहार लगाई है। उन्होंने दुबई पुलिस से भी मामले की निष्पक्ष जांच कर आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है। दुबई पुलिस मामले की जांच कर रही है।

प्रीति ने कहा था- शराब पीने के बाद आपा खो देता है सिंधु

प्रीति ने परिजन को पति की हरकतों की जानकारी दी थी। उसने बताया था कि पति सिंधु उसके साथ मारपीट कर प्रताड़ित करता है। वह शराब पीने के बाद अपना आपा खो देता है। ऐसे में प्रीति ने उससे दूर रहने की बात कही थी।
स्थानीय पुलिस कर सकती है कार्रवाई प्रीति के परिजन ने इस मामले में अपने वकील के साथ मिलकर पुलिस अफसरों से शिकायत की है। वकील ने परिजन को जानकारी दी है कि सीआरपीसी 188 के तहत उन्हें अधिकार है कि इस प्रकरण की रिपोर्ट बिलासपुर पुलिस में दर्ज कराई जा सकती है। 

उनकी रिपोर्ट पर केंद्र सरकार से इजाज़त लेकर आरोपियों के विरुद्ध जुर्म दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा सकती है। लिहाजा, परिजन इसके लिए कोशिश कर रहे हैं। इस मामले में स्थानीय पुलिस क्या कार्रवाई कर सकती है इस पर विधिक राय ली जा रही है। चूंकि, घटना दूसरे देश की है और संदेही भी वहीं का है। ऐसे में प्रारंभिक तौर पर स्थानीय पुलिस को कार्रवाई का अधिकार नहीं है। फिर भी हम अपने अधिकार क्षेत्र के साथ ही विधिक राय लेकर पीड़ित पक्ष की सहायता करने की प्रयास कर रहे हैं।