व्यक्ति को अपनी बहन की लाश को कंधे पर रखकर ले जाना पड़ गया महंगा..!

बिहार के गया जिले में मानवता को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आई है। अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज में एक व्यक्ति ने अपनी बहन मंत्री कुमारी को पच्चीस जून को शुगर की शिकायत के बाद भर्ती किया था। जिनकी मृत्यु बुधवार को हो गई थी।
जिसके बाद उस व्यक्ति ने अपनी बहन की लाश को उठाने के लिए स्ट्रेचर मांगा तो मेडिकल स्टाफ ने स्ट्रेचर तक देने से मना कर दिया। जिसकी कारण से उस व्यक्ति को अपनी बहन की लाश को कंधे पर रखकर प्राइवेट एम्बुलेंस तक ले जाना पड़ा।
ध्यान देने वाली बात ये भी है कि उस व्यक्ति ने जब सरकारी एम्बुलेंस की मांग की तो उसे सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे टहलते रहे। फिर भी ये कहकर माना कर दिया कि लाश को जिस क्षेत्र में ले जाना है वो नक्सलवादी एरिया है। इसलिए वहां नही जाएंगे।
सरकारी एम्बुलेंस का ड्राइवर भी जब मिला तो वो शराब के नशे में चूर था। ऐसे हालात में उस व्यक्ति को प्राइवेट एम्बुलेंस से ही अपनी बहन की लाश को अपने गांव 110 किलोमीटर दूर डुमरिया प्रखंड के पथरा गांव ले जाना पड़ा।
ध्यान देने वाली बात ये भी है कि उस व्यक्ति के पास पैसे भी नही थे तो प्राइवेट एम्बुलेंस के ड्राइवर को ये कहकर ले जाना पड़ा कि जब वो गांव पहुंच जाएंगे तो दे देंगे। तो ये हाल है बिहार के सरकारी हॉस्पिटल और एम्बुलेंस का जहां इंसानियत नाम की कोई चीज नही रहती है।