मंदिर निर्माण के लिए मुस्लिम से मांगने गए थे चंदा, मिला कुछ ऐसा जानकर परेशान हो जाएंगे आप...!

जहां गोकशी जैसी अफवाह के बाद बवाल की खबर ने पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश पर दाग लगा दिया था। वहीं अब सांप्रदायिक सदभाव का एक ऐसा मामला सामने आया है। जिसने एक बार फिर से गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल पेश की है। अभी तक आप ने यही सुना होगा की फलाने मुसलमान ने मंदिर के लिए भुमि दान की है। लेकिन अब आप देख भी लो मेरठ में एक मुसिल्‍म औरत ने मंदिर के लिए चंदा मांगने आए हिन्दू भाइयों को भुमि देने का ऐलान कर दिया। मुस्लिम औरत की भुमि पर मंदिर निर्माण का काम भी प्रारम्भ हो गया है।
बता दे की उत्तर प्रदेश के मेरठ में यहां 67 वर्ष की औरत अकबरी ने मंदिर बनाने के लिए अपंनी 150 गज भुमि दान कर दी। वो इससे पहले भी मस्जिद के लिए भी भुमि दान कर चुकी है। फिलहाल मंदिर के लिए दान की हुई भुमि पर निर्माण कार्य प्रारम्भ हो चुका है। अकबरी के इस फैसले की आसपास के इलाके में काफी तारीफ हो रही है।

मिली जानकारी के अनुसार, यह मामला मेरठ-बागपत रोड पर स्थित मुस्लिम बहुल सिवालखास इलाके का है। जहां रिटायर्ड शिक्षक आस मोहम्मद ने बताया है कि कुछ दिन पहले कस्बे के लोग मंदिर के लिए चंदा मांगने घर आये थे। तब वह घर पर मौजूद नहीं थे। जिसके बाद चंदा मांगने आये लोगों ने घर में मौजूद उनकी पत्नी से मंदिर की भुमि खरीदने और उसके निर्माण कार्य के लिए चंदा मांगा
इस पर पत्नी अकबरी ने मंदिर बनाने के लिए उन्हें अपने खेत में से 150 गज भुमि देने का प्रस्ताव दिया। जिस पर अकबरी के पति और बेटे ने भी सहमति दे दी। दान में दी गयी भुमि की कीमत बाजार में 4 लाख की बताई जा रही है। अकबरी ने दान की हुई भुमि से संबंधित शपथपत्र मास्टर राम गोपाल को सौंप दिया। क्योंकि मंदिर निर्माण का कार्य राम गोपाल और रवींद्र शर्मा के संरक्षण में किया जाना तय हुआ है। इस मामले के बाबत अकबरी का कहना है कि वह अपने धर्म में पूरी तरह विश्वास रखती हैं। साथ ही दूसरे धर्मों की भी इज्जत करती हैं। और हिन्दू हो या मुसलमान सब भाई है।

इस लिए यह निर्णय लिया है। उन्होने कहा है कि पहली बार उनके पास कोई मंदिर निर्माण के लिए चंदा मांगने आया था। उन्होंने मंदिर के लिए भुमि दे दी। बता दें कि मंदिर के लिए मुस्लिम औरत द्वारा भुमि दान करने का मामला पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। बताया जा रहा है कि मंदिर का निर्माण मस्जिद से करीब 100 गज की दूरी पर हो रहा है।