दूल्हा-दुल्हन ने अपने ही शादी में लगाई झाडू, जानिए क्या था कारण..!

दरअसल, एटा के गांव अंबरपुर में शादी के दौरान दूल्हा-दुल्हन ने साथ ही में झाड़ू लगाकर स्वच्छता का संदेश दिया और पौधरोपण कर नवनिर्माण का संदेश भी दिया। पौधरोपण के लिए दूल्हा अपने साथ 21 पौधों का शगुन भी लेकर आया हुआ था। जयमाला के दौरान आशीर्वाद देने आए रिश्तेदारों से भी स्वच्छता और पौधरोपण का वचन लिया गया।बरेली के गांव अमरौली निवासी मनीष पुत्र हरदयाल की शादी एटा के गांव अंबरपुर निवासी राजमाला पुत्री ठाकुरदास के साथ तय हुई थी।
आपको बता दें की बीते सोमवार को ही दूल्हा मनीष बारात लेकर गांव अंबरपुर पहुंचा हुआ था। वहां पर बारातियों के साथ गांव में दूल्हा ने झाड़ू लगाकर स्वच्छता का संदेश दिया। जयमाला के दौरान ही दूल्हा एक बैनर भी लाया, जिसमें स्लोगन लिखा था कि हमने बस यही जाना है कि भारत को स्वच्छ बनाना है। दूल्हा-दुल्हन दोनों ने बैनर को साथ पकड़ा। इसके साथ आशीर्वाद देने आए रिश्तदारों से अभियान आगे बढ़ाने का वचन भी लिया। इसके बाद मंगलवार सुबह विदाई के समय दूल्हा-दुल्हन ने झाड़ू लगाकर सफाई की। शगुन के तौर पर लाए गए पौधे दुल्हन और बारातियों के साथ मिलकर गांव में रोपे गए।
गांव अंबरपुर में दूल्हा मनीष कुमार ने हिन्दुस्तान से बताया कि कुछ महीने पूर्व ही लड़की राजमाला को देखने गांव आए हुए थे। वहां पर काफी ज्यादा गंदगी थी और महिलाएं शौच के लिए खुले में जा रही थी। पहले तो मन में शादी गांव में न करने का विचार आया, मगर बाद में मन में ठाना कि क्यों न वह गांव में इस तरह शादी करें कि गांववाले भी जागरूक हों। गांववालों को गांव साफ रखने एवं शौचालय बनवाने का प्रण दिलवाया जाए। इस पर उन्होंने शादी से पहले होने वाली पत्नी राजमाला से बात की और वह भी इसे लेकर राजी हो गई। दुल्हन राजमाला ने हिन्दुस्तान से बताया कि जब मनीष ने गंदगी, शौचालय को लेकर गांववालों की सोच बदलने का यह विचार बताया तो वह भी राजी हो गई।
राजमाला ने भी शुरुआती बातचीत में मनीष से ससुराल में शौचालय होने की बात भी पूछी थी। कहा था कि शौचालय नहीं है तो बनवा लीजिए। यह सुनकर मनीष भी काफी ज्यादा खुश हुए कि दोनों की सोच एक जैसी है। इसके बाद दोनों ने अपने-अपने गांव की दशा बदलने के लिए पूरा ताना-बाना बुना। दोनों बताते हैं कि बिहार में गंदगी से फैली बीमारी से कई बच्चों की मौत हो गई। यह सब देखकर दोनों का मन भी काफी विचलित हुआ और गंदगी के खिलाफ मुहिम छेड़ दी। दोनों ने शादी से स्वच्छ भारत का अभियान शुरू किया। दोनों यह योजना बनाई कि वह शादी में स्वच्छता, पौधारोपण कर अनूठी मिसाल पेश करेंगे।
बताते चलें की दो साल पहले ही उनमें फेसबुक से दोस्ती हुई और बात इतनी आगे बढ़ गई दोनों शादी के लिए राजी हो गए। इस रिश्ते पर घरवालों ने भी कोई एतराज नहीं जताया। दूल्हा मनीष बताते हैं कि उन्होंने बरेली से बीटेक किया है और वर्तमान में बरेली में एक कंपनी में जॉब कर रहे हैं। इसके साथ ही दुल्हन राजमाला निवासी अंबरपुर कोतवाली देहात अवागढ़ के एक कॉलेज से बीटीसी कर रही हैं। दोनों ने अपने-अपने परिवार के सामने बात रखी। दोनों के परिवारीजन शादी के लिए मान गए।