स्कूल न जाने पर बेटे को मारा थप्पड़, विरोध में बेटे ने मारा पत्थर, फिर माँ ने पी लिया ज-हर... जानें फिर क्या हुआ

स्कूल की छुट्टियां समाप्त होने पर जब एक महिला ने अपने बेटे को स्कूल जाने के लिए कहा तो बेटे ने महिला को पत्थर मार दिया, जिससे आहत हो महिला ने जहर खा कर आत्म हत्या करने की प्रयास की। जिसे परिवार वाले तुरंत सिविल अस्पताल में लेकर पहुंच गए जहां महिला की हालत गंभीर बनी हुई है। 
loading...
चिकित्सकों ने महिला के परिजनों को 48 घंटे का वक्त दिया है चिकित्सकों के अनुसार यदि महिला की स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो उसे रैफर कर दिया जाएगा। महिला की पहचान तानो पत्नी नरिदर कुमार निवासी सुखियाबाद के रुप में हुई है। अस्पताल में अपनी पत्नी की इलाज के लिए पहुंचे नरिदर कुमार ने बताया कि उसका बेटा जोकि सरकारी स्कूल में पहली कक्षा का छात्र है स्कूल की छुट्टियां समाप्त होने पर भी स्कूल जाने पर अड़ रहा था। 

सुबह उसकी पत्नी तानो ने बेटे को नहला धुलाकर स्कूल जाने के लिए तैयार कर दिया। पर उनका बेटा सोमनाथ स्कूल जाने के लिए तैयार नहीं था। वह फिर घर से बाहर खेलने के लिए दौड़ गया। जिस पर उसकी पत्नी तानो देवी बेटे सोमनाथ के पीछे-पीछे गली में निकल गई और उसे पकड़कर घर ले आई और स्कूल जाने के लिए कहा। 
किन्तु सोमनाथ स्कूल जाने से मना करता रहा और अड़ गया। इस पर तानो ने सोमनाथ को थप्पड़ लगा दिया। सोमनाथ रोने लगा और उसका विरोध बढ़ता चला गया, तानो ने जब सोमनाथ को दूसरा थप्पड़ मारा तो सोमनाथ ने आंगन में पड़ा पत्थर उठा लिया और अपनी मां को मार दिया। इस पर तानो देवी ने रोना शुरु कर दिया और इस बात का दुख जताया कि उसके बेटे ने उसे पत्थर मारा है। 

चिल्लाते हुए तानो ने कहा कि अभी तू छोटा है तो मुझे पत्थर मारा है जब बड़ा हो जाएगा तो मुझे पीटेगा तो सोमनाथ ने कहा कि जब तुम मुझे मारोगी तो मैं भी मारुंगा। नरिदर ने बताया कि वह भी घर में उपस्थिर था। इस पर उसने सोमनाथ को डांट दिया। 
वह अभी सोमनाथ को डांट ही रहा था कि तानो कमरे में चली गई और घर में पड़ी जहरीली कीट नाशक दवाई पी ली। जिस वजह से तानो की तबीयत ख़राब हो गई और वह बेसुध होकर गिर गई। वह अपनी पत्नी को तुरंत अस्पताल लेकर पहुंच गया। जहां तानो की स्थिति गंभीर बनी हुई है। नरिदर ने बताया कि डॉक्टरों ने उसे 48 घंटे का वक्त दिया है यदि तानो की स्थिति में सुधार आता है तो ठीक नहीं तो उसे रैफर किया जाएगा।