दूध मांगने पर मां ने 8 महीने के मासूम का किया ये हाल, बोली "चीखें नहीं हो रही थी बर्दाश्त"

एक मां ने ऐसा काम किया है,जिससे सुनकर बच्चे अब अपनी मां से भी डरने लगेंगे।मामला कन्नौज का हैं।जहां एक मां को उसके मासूम बच्चे का देर रात्रि को भूख से चीखना इतना बुरा लगा कि उसने बच्चे की गला घोंटकर कत्ल कर दी।मां का कहना है कि वह दूध खरीदने का इंतजाम नहीं कर पाई,इसलिए उसने बच्चे को मार डाला।
loading...
मामला छिबरामऊ के मोहल्ला बिरतिया का हैं।यहां का रहने वाला शाहिद उर्फ शालू मुंबई में नौकरी करता हैं। उसकी पत्नी रुखसार कन्नौज के छिबरामऊ स्थित एक मोहल्ले में बने घर में तीन बच्चों के साथ रह रही थीं। आसपास के लोगों की मानें तो रुखसार का 8 महीने का पुत्र अहद तीन दिन से भूखा था। 
रुखसार बेटे के लिए दूध का बेवस्था नहीं कर पा रही थीं। तीनों बच्चे उससे बार-बार खाना मांग रहे थे।रात से ही अहद दूध के लिए तेज आवाज में रो रहा था।पूरी रात उसे पानी पिलाने की कोशिश करने वाली रुखसार उसका दर्द बर्दाश्त नहीं कर पाई।उसने भूखे अहद का गला दबाकर चीख हमेशा के लिए शांत कर दी।
वहीं जब अगली सुबह बेटा कुछ हलचल नहीं कर रहा था तो मां चुप चाप बैठी रही।जब सदस्य बच्चे के पास जाने लगे तो वह सबको डांटने लगी।जिसके बाद रुखसार की बड़ी बेटी ने बताया कि मां ने भाई को गला दबा कर मार दिया।पुलिस के सामने जब 4 वर्ष की बेटी ने असलियत बयां की तो सुनने वालों का भी दिल रो पड़ा।
इस मामले की जानकारी मिलते ही प्रभारी निरीक्षक मौके पर पहुंचे।पुलिस ने रूखसार से पूछताछ की तो उसने कहा कि तीन दिन से बच्चों के खाने का इंतजाम करने को लेकर परेशान थी,सौ रुपये उधार लेकर आई थीं।
तीन दिन से बच्चे के लिए दूध भी नहीं जुटा पा रही थीं।उसने बच्चे को नींबू और शक्कर का घोल पिला दिया।इससे उसकी मृत्यु हो गई। रूखसार बोली जब बच्चे भूखे थे तब कोई भी नहीं आया और आज भीड़ जुट गई हैं।पुलिस ने रूखसार को हिरासत में ले लिया हैं।