20 अंडे और आधा किलो मीट खाने वाली माधवी भारतीय टीम में हुई शामिल, जानिए क्यों खाती हैं इतना

जिस उम्र में लड़कियां जीरो फिगर मेंटेन करने के बारे में सोचती है, उस उम्र में धनबाद की माधवी बिलोचन सिक्स पैक एब्स बना रही है। झारखंड की पहली महिला बॉडी बिल्डर माधवी अपनी फिटनेस के लिए प्रत्येक दिन 20 अंडे और आधा किलो चिकेन खाती हैं। भारतीय बॉडी बिल्डिंग टीम में माधवी का चुनाव किया गया, जो 12-18 सितंबर तक मंगोलिया में आयोजित एशियन बॉडी बिल्डिंग चैंपियनशिप में भाग लेंगी। तमिलनाडु में भारतीय टीम के चयन ट्रायल में माधवी का चयन किया गया। सोमवार को टीम की ऐलान की गई। 
शहर के बेकारबांध इलाके में रहने वाली माधवी ने अपने भाई को देखकर पहले पावर लिफ्टिंग शुरू की थी, किन्तु प्रैक्टिस के दौरान माधवी का हाथ एक बार टूट गया। बैठे-बैठे माधवी ने बॉडी बिल्डिंग पर ध्यान देना शुरू किया। जिला स्तर और राज्य स्तर पर कई खिताब जीत चुकी माधवी ने 2018 में मिस इंडिया बॉडी बिल्डिंग का खिताब अपने नाम किया। वहीं 2019 में आईबीएफ बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता में रनरअप का खिताब जीता। इतने खिताब के बावजूद माधवी को कभी सरकारी व्यवस्था नहीं मिली। 

बॉडी ऐसी कि लड़कों को भी आ जाए पसीना 
माधवी ने तीन वर्ष की कड़ी परिश्र्म के बाद अपनी बॉडी को इस सांचे में ढाला है कि लड़के भी देखकर शर्मा जाएं। माधवी कहती हैं कि लड़की होकर यह खेल अपनाने में थोड़ी झिझक हुई, किन्तु धीरे-धीरे आदत पड़ गई। मेडल जीतने पर अब मुहल्ले वाले ही बधाई देने आते हैं। 

हर दिन पांच-छह घंटे प्रैक्टिस 
माधवी ने कहा कि वह हर दिन पांच-छह घंटे अभ्यास करती हैं। माधवी ने अपनी सफलता का श्रेय गुरु देवी प्रसाद चटर्जी को दिया। उनकी देखरेख में ही माधवी ने इसकी शुरुआत की थी। माधवी को यकीन है कि वह अपने देश के लिए मेडल जीतकर लौटेंगी। वह कहती हैं कि बॉडी बिल्डिंग उनका पैशन बन चुका है और वह इसमें अपना भविष्य बनाएंगी।