12 वर्ष की नाबालिग से शादी करना चाहता था बुढा, फिर पड़ गए लेने के देने !

यदि हम बात करे पुराने समय की भारत मे पहले छोटी सी आयु मे लडकियों की विवाह कर दी जाती थीं।भारत मे बाल विवाह का प्रचलन था और कभी कभी तो लडकियों की विवाह उनसे आयु मे बहुत ज्यादा बड़े लडको से भी कर दी जाती थीं।ये तो हमने आपको पुराने वक्त के बारे मे बताया है लेकिन आज हम ऐसा ही एक मामला लेकर आये है सरकार ने नाबालिग लडकियों की विवाह पर बेन लगा दिया हैं।
loading...
फिर भी भारत के लोग इस कुप्रथा कैसे न कैसे निभा ही लेते है आज हम आपको ऐसी ही एक हादसे के बारे मे बताने जा रहे हैं। इस घटना के अनुसार मध्य प्रदेश के मुरेना जिले के एक गाँव मे 12 वर्ष की लड़की की विवाह ५१ वर्ष के आदमी से करायी जा रही थीं।ये आदमी गाँव का सरपंच था।ये मामला बहराल जागीर पंचायत के शादीशुदा सरपंच जगन्नाथ मावई का हैं।अब हम आपको पूरी घटना के बारे मे बताते हैं।
जगन्नाथ मुरेना के एक गाँव मे 12 वर्ष की लड़की से विवाह करने जा रहा था ,वो आदमी अपनी बेटी की आयु की लड़की  से विवाह को लेकर शर्म महसूस करने की बजाय इतना उत्सुक था कि उसने तो दुल्हन को हेलीकाप्टर मे ले जाने की तैयारी भी की थीं।जानकारी के अनुसार सरपंच ने जिले कलेक्टर से अनुमति भी ले ली थी दुल्हन को हेलीकाप्टर मे ले जाने की पर किसी गाँव वाले ने उस आदमी की शिकायत जिले कलेक्टर से कर दी की वो जिस लड़की से विवाह कर रहा हो वो नाबालिग हैं।
इस शिकायत के बाद कलेक्टर ने कार्यवाही की और जब मालूम चला की ये सब सच है तो कलेक्टर ने सरपंच को उसके पद से हटा दिया और 19९३ की धारा उस पर लगा दी।
ये भी मालूम चला है की जगन्नाथ ने कलेक्टर से खेर हुसैनपुरा और अपने गाँव बहरहारा मे हेलीकाप्टर उतारने की अनुमति ली थीं पर इस शिकायत के बाद कलेक्टर ने तहसीलदार को भेजा उसके गाँव मे जब तहसीलदार ने बताया लड़की नाबालिग है तो कलेक्टर ने तुरंत विवाह को रुकवाया।
आपको ये जानकारी और भी आश्चर्य होगा की लड़की ने 2010 मे ही पहली कक्षा मे दाखिला लिया था। जिला पंचायत की कार्यपालिका सोनिका मीना ने बताया की हमने मावई के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया हैं। और अब मावई 6 सालो तक सरपंच पद के लिए खड़ा नहीं हो सकता है क्यूंकि नाबालिग की विवाह कराना एक बहुत ही गिनौना अपराध हैं।